ब्रहमाकुमार ओमप्रकाश ‘भाईजी‘ के प्रति श्रध्दांजलि सभा आयोजन

विश्व के प्रेरणास्त्रोत रहें ‘भाईजी‘
ब्रहमाकुमार ओमप्रकाश ‘भाईजी‘ के प्रति श्रध्दांजलि सभा आयोजन
 
इंदौर – दि 27.।  प्रजापिता ब्रहमाकुमारी ईश्वरीय विश्व विद्यालय, इंदौर-छत्तीसगढ क्षेत्र के निदेशक तथा ब्रहमाकुमारीज मीडिया प्रभाग के राष्ट्रीय अध्यक्ष ब्रहमाकुमार ओमप्रकाश ‘भाईजी‘ के लिए श्रध्दांजलि सभा का आयोजन ज्ञानशिखर परीसर के ब्रहमाकुमारीज मुख्यालय में आयोजित किया शहर के गणमान्य व्यक्तियोंने उन्हें भावभीनी श्रध्दांजलि अर्पित की ।
ब्रहमाकुमाीज के इस महान आत्माओं के लिए आयोजित श्रध्दांजलि सभा के लिए विशेष शहर के सभी क्षेत्र के व्यक्ति उपस्थित थे । सर्वप्रथम ब्रहमाकुमारीज मुख्यालय माउण्ट आबू की ओरसे ज्ञानामृत पत्रिका के सम्पादक ब्रहमाकुमार आत्मप्रकाशजीने कहा कि, हम इंजिनिअरींग की पढाई साथ साथ की जिससे हमारा भाईजी के साथ 1957 में प्रथम सम्पर्क हुआ, उन्होनें उसी समय हमें सत्य आध्यात्मिक ज्ञान का परिचय दिया जिससे मेरे जीवन सही अर्थ से प्रकाश आया, उनके अन्दर एक दिव्य प्रतिभा थी, जिसके कारण उन्होंने समूचे विश्व में ब्रहमाकुमारीज का ज्ञान कोने कोने में पहूंचाने में अपनी अहम भूमिका अदा की ।
डा. शरद पंडित, स्वास्थ्य विभाग, इंदौरने कहा की, मे स्वास्थ्य से सम्बधित होने के कारण कई बार उन्होंने ब्रहमाकुमारीज की समाज के लिए स्वास्थ्य सेवाओं को मेरे साथ जुडाया विशेष नशामुक्ती और हांलही में बेटी बचाव अभियान में उनके साथ ईश्वरीय सेवाओं के कार्य करने का सुअवसर मिला, समाज की सेवाओं में उन्होनंे अपना पूरा जीवन समर्पित किया ।
कृपाशंकर शुक्लाजी, वरीष्ठ कांग्रेस नेता, इन्होंने भाईजी के महिलाओं प्रति उच्च भावनाओं के गुण का वर्णन करतें हूए कहा की, इंदौर में दिव्य कन्या छात्रावास की उनकी परियोजना अत्यंत प्रेरणदाई है, इस छात्रावास की कन्याओंने समूचे भारत देश में इंदौर का नाम रोशन किया है ।
जयकृष्ण गौड, राष्ट्रवादी चिन्तक तथा वरीष्ट पत्रकार, सम्पादक चैरवैदी ने कहा की, भाईजी ने मध्य प्रदेश, छतीसगढ, उडिसा, राजस्थान इतने बडे विशाल परिसर में राजयोग के प्रसार हेतु अपना समूचा जीवन समर्पित किया है यह एक अदभूत कार्य है ।
जीवन साहू, वरीष्ठ पत्रकार तथा पूर्व सचिव, इंदौर प्रेस क्लबने अपने भावोदगार में कहा की, मीडिया में एक सकारात्मक सोच लाने हेतु भाईजी ने अथक प्रयास किया जिससे हम सभी इंदौर के पत्रकारों ने सकारात्मक सोमवार पहल शुर कर हर सोमवार के दिन सकारात्मक खबरें प्रकाशित करने का संकल्प लिया । मीडिया में परिवर्तन का यह एक उदाहरण है एैसे कई उदाहरण भाईजीने समस्त देश के मीडिया में लाये ।
अन्वर भाई, वरीष्ट कांग्रेस नेता ने, कहा की, आध्यात्मिक मार्ग के मार्गदर्शन में भाईजी के योगदान को कभी भूला जायेंगा , उन्होनं मुस्लिमभाई बहनों की ओरसे भाईजी को श्रध्दांजलि अर्पित की ।
ब्रहमाकुमार अमिरचंद, चंदीगड, क्षेत्रीय निदेशक, पंजाब क्षेत्र ने कहा की, भाईजी ने हर परिस्थिती में अचल अडौल और हर्षितमुख रह कर अपनी आंतरीक शक्तियों को उजागर करने के गुण से सभी के सामने एक आदर्श स्थापित किया है ।
डा. प्रभू नारायण मिश्र ने कहा की, निस्वार्थ सेवा देने वाले भाईजी जैसे केवल 100 व्यक्ति अगर इस देश में रहे तो देश की तस्वीर बदल जायेगी ।
डॉ शिल्पा देसाई, ने कहा की, इस संस्था के संस्थापक पिताश्री प्रजापिता ब्रहमाबाबा को हमने नही देखा किन्तू भाईजी ने हमें वह अनुभूती कराई,  भाईजी के जाने पर हमे द शो मस्ट गो आन अर्थात उनके कार्य को आगे चालु रखना है ।
डा. सोमनाथ वडनेरे, मीडिया प्रोफेसर जलगांव ने भाईजी के पत्रकारिता क्षेत्रमें योगदान प्रति कहा की, भाईजी की प्रेरणास्वरुप मैने पत्रकारिता की पढाई में स्वर्णपदक और डाक्टरेट पीएच डी हांसील की एैसे मेरे जैसे कई युवा पत्रकारों को उन्होने तैयार किया ।
ब्रहमाकुमारी हेमलता दीदी, प्रभारी इंदौर ने कहा की, आंतरीक पवित्र आत्मा रहे भाईजी के कुशल नेतृत्व में 500 से अधिक सेवाकेंद्र बने और 800 से अधिक ब्रहमाकुमारी बहनों को मार्गदर्शन किया । उन्होंने बीएसी के बाद सर्जन बनने का संकल्प किया लेकिन भाईजी ने रुहानी अर्थात मनुष्य आत्माओं की कमजोरी ठिक करने का सर्जन बनाया ।
आशिष गुप्ता, पत्रकार ने कहा की, हमेशा हर्षित मुखता के धनी रहे  भाईजी ने कहा की, भाईजी सहनशिलता की मूर्ती थे, इतनी कडी बिमारी में भी चेहरें पर कोई दुख के निशान नही रखें प्रकृतीजीत बने भाईजीने हमें सभी को आगे बढाया ।
सुरेश गोंडल, पूर्व रजिष्ट्रार देवी अहिल्या विवि इंदौर ने कहा की, मै विश्व विदयालय में सेवा देता हूं जिससे भाईजी के साथ गहरा सम्बध आया शिक्षा क्षेत्र में उनका योगदान प्रेरणादाई रहा, ब्रहमाकुमारीज विश्व विदयालय सही अर्थ से विश्व में शिक्षा का कार्य करता इसके पीछे भाईजी का समर्पण निश्चित अभिनंदनीय है ।
महेंद्र भाई, खण्डवा ने जिसकी रचना इतनी सुन्दर, वो कितना सुन्दर होगा यह गीत गाकर अपनी भावांजली व्यक्त की ।
ब्रहमाकुमारी कमला दीदी, रायपूर प्रभारी ने भाईजी की रायपूर सेवाओं का जिक्र करतें हूए कहा की, राजधानी में भाईजीने आदिवासी भाई बहनों के जीवन में जो परिवर्तन लाया वह प्रेरणादायी है । भाईजीने सभी प्रवर्गो के साथ रायपूर विधानसभा के विधायक, मंत्रीयों को राजयोग संदेश भी दिया ।
सभा में रामेश्वर पटेल, पूर्व मंत्री, म.प्र., शक्ति सिह परमार, सम्पादक स्वदेश, डा उमाशशि, पूर्व महापौर, प्रो राजीव शर्मा समवेत बडी संख्या में गणमान्य व्यक्ति उपस्थित थे ।
7a0044a6-7eed-4df2-a27d-e9c5fd1ede1e  5e9bdc51-0fa2-406f-ae33-4ec3b5ec25bb